Zindagi Na Milegi Dobara Poems in Hindi - Javed Akhtar

Zindagi Na Milegi Dobara Poem:- काव्य की उपथथती Bollywood Movies में दिखना सुरु हो गया है, सन 2011 में आई फिल्म ज़िंदगी ना मिलेगी दोबारा में Farhan Akhtar जी ने कई सारी Javed Akhtar की हिन्दी कविताए को इस फिल्म में कहा था। इस Poetry के Lyrics जब लोगो ने सुना तो उन्हे बहोत पसंद आई यही कारण था की आज इस कविता के ऊपर लोग Shayari की तरह उपयोग करते हुए दिखाई पड़ते है। जावेद अख्तर कि कविता में प्रेम भाव में अत्यधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता रहा है इसलिए ही हम आज भी जिंदगी पर लिखी कविता को हम बहोत प्रेम भाव से सम्मान करते है।

Zindagi Na Milegi Dobara All Poems In Hindi By Farhan Akhtar



Dil Aakhir Tu Kyun Rota Hai 

जब जब दर्द का बादल छाया,
जब गम का साया लहराया
जब आँसू पलकों तक आया, 
जब ये तनहा दिल घबराया 
हमने दिल को ये समझाया, 
दिल आखिर तू क्यों रोता है
दुनिया में युही होता है।

ये जो गहरे सन्नाटे हैं..
वक्त ने सब को ही बांटे हैं 
थोडा गम है सबका किस्सा..
थोड़ी धुप है सब का हिस्सा 
आँख तेरी बेकार ही नम है,
हर पल एक नया मौसम है 
क्यूँ तू ऐसे पल खोता है
दिल आखिर तू क्यूँ रोता है।


Apne Hone Par Mujhko Yaqeen Aa Gaya- जिंदगी ना मिलेगी दोबारा


पिघले नीलम सा बहता हुआ ये समां
नीली नीली सी खामोशियाँ  
न कहीं है ज़मीन, न कहीं आसमान  
सरसराती हुई टहनियाँ, पत्तियां  
कह रहीं हैं की बस एक तुम हो यहाँ.. 
सिर्फ मैं हूँ..मेरी साँसें हैं..
मेरी धड़कने ऐसी गहराइयाँ, 
ऐसी तन्हाइयां, और मैं… सिर्फ मैं.. 
अपने होने पे मुझको यकीन आ गया।


Toh Zinda Ho Tum Poem By Javed Akhtar Khan -जिंदगी ना मिलेगी दोबारा


एक बात होटों तक है जो आई नहीं
बस आँखों से है झांकती 
तुमसे कभी मुझसे कभी 
कुछ लब्ज है वो मांगती 
जिनको पहन के होटों तक आ जाए वो
आवाज़ की बाहों में बाहें डाल के इठलाये वो
लेकिन जो ये एक बात है एहसास ही एहसास है 
खुशबु सी जैसे हवा में है तैरती 
खुशबु जो बेआवाज़ है 
जिसका पता तुमको भी है, 
जिसकी खबर मुझको भी है दुनिया से भी छुपता नहीं,
 ये जाने कैसा राज है । 


Yeh Jaane Kaisa Raaz Hai By Farhan Akhtar - जिंदगी ना मिलेगी दोबारा

दिलो में तुम अपनी बेताबियाँ लेके चल रहे हो तो जिंदा हो तुम..
नज़र में ख्वाबों की बिजलियाँ लेके चल रहे हो तो जिंदा हो तुम.. 
हवा के झोकों के जैसे आज़ाद रहना सीखो  
तुम एक दरिया के जैसे लहरों में बहना सीखो.. 
हर एक लम्हें से तुम मिलो खोले अपनी बाहें 
हर एक पल एक नया समां देखे ये निगाहें..  
जो अपनी आखों में हैरानियाँ लेके चल रहे हो तो जिंदा हो तुम.. 
दिलो में तुम अपनी बेताबियाँ लेके चल रहे हो तो जिंदा हो तुम।


Zindagi Na Milegi Dobara Movie के सारी कविताएं आपको बहोत अच्छी लगी होगी उम्मीद करूंगा की आप और भी कविताएं इस ब्लॉग में पड़ेंगे और अपने मित्रो को शेयर करेंगे ताकि वो भी इन शायरी को पसंद कर सके।