तूफान पर कविता | Poem on Cyclone in Hindi

Cylone Hindi Poem:- विश्व के सभी देशों में अलग अलग मौसम होते है जिनमें एशिया का भारत देश बहोत भाग्यसाली है क्योंकि इस महान देश में सारे मौसम या ऋतु पाए जाते है जैसे ग्रीष्म ऋतु, वर्षा ऋतु, शरद ऋतु, वसंत ऋतु, हेमंत ऋतु, शिशिर ऋतु कुल छः मौसम पाया जाता है इसलिए भारत को ऋतुओं का राजा कहा गया है। भारत में तूफान, आनी, बारिश, बर्फबारी, ठंड, गर्मी भी बहोत अच्छी मात्रा में होती है कई बार भारत के नागरिकों को Tufan से काफी नुकसान का सामना करना पड़ता है। इस आर्टिकल में आज तूफानों पर शायरी कविता लिखी गई है जिसे लोगो ने प्यार दिया।

Storm and yaas cyclones poem hindi images shayari

तूफान पर कविताएं | Indian Cyclone Poem in Hindi

फनी के फन को कुचलना है
ना देख इसे दहलना है
भले जोर-जोर से करे फूफ़कार
करे शोर भले यह बार-बार
हम सब भी खड़े हैं तैयार।१।

करेंगे इसकी चुनौती को सहर्ष स्वीकार
अपनी हिम्मत है फौलाद
ना तोड़ पाएगा कोई तूफान
यह डाल-डाल तो हम पात-पात
करेंगे मुकाबला हम साथ-साथ।२।

अपनी एकता को देख कर
हर संकट जाएगा दूर हट
हम बनेंगे एक दूसरे की ढाल
जिसे देख थम जाएगा काल।३।

हर संकट का करेंगे मिलकर सामना
मुश्किल का रहेगा नाम ना
फनी के फन को कुचलना है
ना देख इसे हमें डरना है।४।

भारत अपना है दिल अपनी जान
हम हिंदुस्तानी अपना हिंदुस्तान।५।
लेखिका: रीना कुमारी

तूफानों पर कविता - Poem on Tufan in Hindi


तुम तूफान समझ पाओगे? : हरिवंश राय बच्चन कविता

गीले बादल, पीले रजकण,
सूखे पत्ते, रूखे तृण घन
ले कर चलता करता 'हरहर' - इसका गान समझ पाओगे?
तुम तूफान समझ पाओगे?

गंध-भरा यह मंद पवन था,
लहराता इससे मधुवन था,
सहसा इसका टूट गया जो स्वप्न महान, समझ पाओगे?
तुम तूफान समझ पाओगे?

तोड़-मरोड़ विटप-लतिकाएँ,
नोच-खसोट कुसुम-कलिकाएँ,
जाता है अज्ञात दिशा को! हटो विहंगम, उड़ जाओगे !
तुम तूफान समझ पाओगे?





तूफान पर शायरी इन हिन्दी - Shayari On Cyclone


टूटे न कोई और सितारा आओ दुआ करें..
बिछड़े न कोई हमसे हमारा आओ दुआ करें I
तूफान है तेज़ ,कश्तियाँ सबकी भँवर में हैं..
मिल जाये हर किसी को किनारा आओ दुआ करे।


लहरों का सकून तो सब को पसन्द है...
लेकिन तूफान में किश्ती निकालने का,
मज़ा ही कुछ और है।

तूफान पर शायरीयाँ - Best Shayari Status on Cyclone Hindi

एक समंदर दिल में समेटे
आंखें मूंद लेती हुं हर रात,
तूफान भी उठता तो
किनारों से टकराता और लौट जाता,
धड़कन भी किश्तों में
उसमें हर अरमान दफ्न हो जाता,
ऐसे ही तुफानों की रातें आती 
और फिर सुरज निकल जाता!

इन्हें भी पढ़े

आज की कविता मौजूदा भारत में Cyclone Yaas Tufan को ध्यान में रख कर दिए गया है, आप से निवेदन करता हु की आप अपने आस पास में रहने वाले लोगो का इस Tufhan में उन्हे सुरक्षित करने का प्रयास करे और इस कविता को अपने भाईयो के साथ शेयर करे।