आज हम अपने Life में इतने व्यस्त हो गए है कि अपने Maa के पास नही बैठे थहै। उनके साथ अपनी  Story भी नही बताते की Mother मेरे Life में क्या चल रहा है। Mothers Day को हम Short Hindi Poem भेज कर उन्ने Wish भी कर देते है लेकिन फिर Everday कोई बात चीत नही करते। आप के लिए नीचे कुछ Hindi Poem For Mothers दिए गए है।
........................................................

Short Hindi Poem Of Mother

Hindi Poem For Mother Image
Hindi Poem For Mother Image

मां तो जन्नत का फूल है,
प्यार करना उसका उसूल है,
दुनिया की मोहब्बत फिजूल है,
मां की हर दुआ कबूल है ,
मां को नाराज करना
इंसान तेरी भूल है ,
माँ के कदमो की मिट्टी
जन्नत की धूल है !
........................................................
माँ क्या नहीं होती है
साँस होती है , जान होती है
सुख होती है प्राण होती है
माँ क्या नहीं होती है
जीवन होती है , जहँ होती है
जीवन का मकसद और 
जीने का सहारा होती है
माँ क्या नहीं होती है!
........................................................
मेरे सर्वस्व की पहचान
अपने आँचल की दे छाँव
ममता की वो लोरी गाती
मेरे सपनों को सहलाती
गाती रहती, मुस्कराती जो
वो है मेरी माँ!
........................................................

Meri Maa Short Poem Of Mother In Hindi 

Hindi poem on mother
सबसे सुंदर सबसे प्यारी कविता

सबसे सुंदर सबसे प्यारी
मेरी माँ  है सबसे न्यारी 
मुझ पर प्यार ममता बरसाती 
करू  गलत काम तो मार लगाती  
माँ  तु  है सबसे महान
अब यही है बस अरमान  
माँ की महिमा का बखान 
करते करते निकले प्राण 
........................................................
प्यार समेटे सीने में जो
सागर सारा अश्कों में जो
हर आहट पर मुड़ आती जो
वो है मेरी माँ।
दुख मेरे को समेट जाती
सुख की खुशबू बिखेर जाती
ममता की रस बरसाती जो
वो है मेरी माँ।
........................................................
Heart Touching  Hindi Poem For Mother In Hindi

घुटनों से रेंगते-रेंगते, 
कब पैरो पर खड़ा हुआ|
तेरी ममता की छाओ में, 
जाने कब बड़ा हुआ|
काला टिका दूध मलाई| 
आज भी सब कुछ वैसा है|
मैं ही मैं हूँ हर जगह, 

प्यार ये तेरा कैसा है
सीधा-साधा, भोला-भला,
मैं ही सबसे अच्छा हूँ|
कितना भी हो जाऊ बड़ा,
माँ ! मैं आज भी तेरा बच्चा हूँ!
........................................................

Ma Ki Mamata Par Poem In Hindi

Poem in hindi on mother
माँ की ममता पर कविता

माँ की ममता करुणा न्यारी,
जैसे दया की चादर
शक्ति देती नित हम सबको,
बन अमृत की गागर
साया बन कर साथ निभाती,

चोट न लगने देती
पीड़ा अपने उपर ले लेती,
सदा सदा सुख देती
माँ का आँचल सब खुशियों की,
रंगा रंग फुलवारी
इसके चरणों में जन्नत है,

आनन्द की किलकारी
अदभुत माँ का रूप सलोना,
बिलकुल रब के जैसा
प्रेम के सागर सा लहराता,
इसका अपनापन ऐसा
........................................................

Pyari Maa Par Kavita Hindi Mea

धुप में छाया जैसे,
प्यास में दरिया जैसे
तन में जीवन जैसे,
मन में दर्पण जैसे,
हाथ दुआओं वाले रोशन करे उजाले,
फूल पे जैसे शबनम, सांस में जैसे सरगम,
प्रेम की मूरत दया की सूरत ,
ऐसे और कहाँ है ,जैसी मेरी माँ है।

जब भी अँधेरा छा जाये
वोह दीपक बन जाए ,
जब इक अकेली रात सताए,
वोह सपना बन जाए,
अन्दर नीर बहाए ,
बाहर से मुस्काए,
काया वोह पावन सी,मथुरा-वृन्दावन जैसी,
जिसके दर्शन में हो भगवन ,
ऐसी और कहाँ है,जैसी मेरी माँ है
........................................................

Meri Mata Par Kavita In Hindi For School Competition of Poems


चुपके चुपके मन ही मन में
खुद को रोते देख रहा हूँ
बेबस होके अपनी माँ को
बूढ़ा होता देख रहा हूँ

रचा है बचपन की आँखों में
खिला खिला सा माँ का रूप
जैसे जाड़े के मौसम में
नरम गरम मखमल सी धूप
धीरे धीरे सपनों के इस
रूप को खोते देख रहा हूँ

बेबस होके अपनी माँ को
बूढ़ा होता देख रहा हूँ


Mother poem in hindi
माँ का प्यार पर कविता
छूट छूट गया है धीरे धीरे
माँ के हाथ का खाना भी
छीन लिया है वक्त ने उसकी
बातों भरा खजाना भी
घर की मालकिन को
घर के कोने में सोते देख रहा हूँ

चुपके चुपके मन ही मन में
खुद को रोते देख रहा हूँ
बेबस होके अपनी माँ को
बूढ़ा होता देख रहा हूँ!
........................................................

Janm Daatri Meri Mata Poem In Hindi For Class 3,4,5,6,7, Students Kavita

जन्म दात्री
जन्म दात्री
ममता की पवित्र मूर्ति
रक्त कणो से अभिसिंचित कर
नव पुष्प खिलाती

स्नेह निर्झर झरता
माँ की मृदु लोरी से
हर पल अंक से चिपटाए
उर्जा भरती प्राणो में
विकसित होती पंखुडिया
ममता की छावो में

सब कुछ न्यौछावर
उस ममता की वेदी पर जिसके
आँचल की साया में
हर सुख का सागर!
........................................................

Ma Ke Upar Kavita Hindi Mea.

घुटनों से रेंगते-रेंगते,
कब पैरों पर खड़ा हुआ,
तेरी ममता की छाँव में,
जाने कब बड़ा हुआ!

काला टीका दूध मलाई
आज भी सब कुछ वैसा है,
मैं ही मैं हूँ हर जगह,
माँ प्यार ये तेरा कैसा है!

सीधा-साधा, भोला-भाला,
मैं ही सबसे अच्छा हूँ,
कितना भी हो जाऊ बड़ा,
“माँ!” मैं आज भी तेरा बच्चा हूँ!
........................................................

Hamare Har Marj Ki Dava Hoti Hea Ma 10+ Line Hindi Poem On Mother 

Poem in hindi on maa
हमारे हर मर्ज की दवा होती है माँ

कभी डाँटती है हमें,
तो कभी गले लगा लेती है माँ.
हमारी आँखोँ के आंसू, 
अपनी आँखोँ मेँ समा लेती है माँ.

अपने होठोँ की हँसी, 
हम पर लुटा देती है माँ.
हमारी खुशियोँ मेँ शामिल होकर,
अपने गम भुला देती है माँ.

जब भी कभी ठोकर लगे
तो हमें तुरंत याद आती है माँ.
दुनिया की तपिश में, 

हमें आँचल की शीतल छाया देती है माँ
खुद चाहे कितनी थकी हो, 
हमें देखकर अपनी थकान भूल जाती है माँ

प्यार भरे हाथोँ से, 
हमेशा हमारी थकान मिटाती है माँ
बात जब भी हो लजीज खाने की,
 तो हमें याद आती है माँ

रिश्तों को खूबसूरती से 
निभाना सिखाती है मां
लब्जोँ मेँ जिसे बयाँ नहीँ 
किया जा सके, ऐसी होती है माँ
भगवान भी जिसकी ममता के आगे झुक जाते हैँ!
........................................................

Maan Aur Bhagvaan Poem In Hindi For Class 6,7,8,9,10,11,12 Students


माँ और भगवान
मैं अपने छोटे मुख कैसे करूँ तेरा गुणगान,
माँ तेरी समता में फीका-सा लगता भगवान..

माता कौशल्या के घर में जन्म राम ने पाया,
ठुमक-ठुमक आँगन में चलकर सबका हृदय जुड़ाया..
पुत्र प्रेम में थे निमग्न कौशल्या माँ के प्राण,
माँ तेरी समता में फीका-सा लगता भगवान..

दे मातृत्व देवकी को यसुदा की गोद सुहाई..
ले लकुटी वन-वन भटके गोचारण कियो कन्हाई,
सारे ब्रजमंडल में गूँजी थी वंशी की तान..
माँ तेरी समता में फीका-सा लगता भगवान..

तेरी समता में तू ही है मिले न उपमा कोई,
तू न कभी निज सुत से रूठी मृदुता अमित समोई..
लाड़-प्यार से सदा सिखाया तूने सच्चा ज्ञान,
माँ तेरी समता में फीका-सा लगता भगवान!

कभी न विचलित हुई रही सेवा में भूखी प्यासी..
समझ पुत्र को रुग्ण मनौती मानी रही उपासी,
प्रेमामृत नित पिला पिलाकर किया सतत कल्याण..
माँ तेरी समता में फीका-सा लगता भगवान!

‘विकल’ न होने दिया पुत्र को कभी न हिम्मत हारी,
सदय अदालत है सुत हित में सुख-दुख में महतारी..
काँटों पर चलकर भी तूने दिया अभय का दान,
माँ तेरी समता में फीका-सा लगता भगवान!
........................................................

ऊपर आपको कई सारे Hindi Poem यानी Hindi Kavita देखने को मिली होगी ये सारे Poem हमारे Mata, Maa, Mother, Aai के लिए है।

Hindi Poem On Mother इस Post में आप को जितनी भी कविता और Poem देखने को मिली है उसे हम अपने Class 1,2,3,4,5,6,7, 8,9,10,11,12 के लिए उपयोग कर सकते है।

Poem सभी लोगो को बहोत अच्छा लगता है इसी लिए जब हम Kids थे तब भी हमे ये Hindi Poem को पढ़ाया जाता था और आज भी जब हम Class 6,7,8,9 तब भी हमे यही कविता को पढ़ना पड़ता था।

 ये सारे Hindi Poem Emotional, Lovely, Heartful,Best,Short  On Mother's है। आप को अगर ऊपर दिए गए Poem जो कि Hindi मै है पसंद हो उसे आप अपने Mata या Mother से जरूर Share करे।